परिचय

Sunday 8 August 2010

आफिस की ये फाईलें


आफिस की ये फाईलें-

मेरे सपने में आती हॆं

कभी हंसती हॆ

कभी रोती हॆ

कभी चिडाती हॆं

कभी डराती हॆं

तो कभी धमकाती हॆं.

आफिस की ये फाईलें-

मेरे सपने में आती हॆं.

ये फाईलें-

सिर्फ कागज का पुलिंदा नहीं हॆं

हर फाईल के पीछे

छुपा हॆ एक चेहरा

जो न तो गूंगा हॆ

ऒर न ही बहरा.

यह चेहरा

कभी-कभी मेरे सामने-

आकर खडा हो जाता हॆ

अजीब-अजीब सी

शक्लें बनाता हॆ.

कभी हाथ जोडता हॆ

कभी मुस्कराता हॆ

कभी रोता हॆ

कभी गिडगिडाता हॆ

तो कभी-

मुट्ठी तानकर-

खडा हो जाता हॆ.

सच कहूं-

कभी-कभी तो

मॆं बहुत छोटा

ऒर ये चेहरा-

बहुत बडा हो जाता हॆ.

+++++