परिचय

Wednesday 18 March 2015

बच्चे अब बड़े हो रहे हैं





मैंने-
छुपाकर रख दिया है
वो पैन!
जिससे कभी
प्रेम-पत्र लिखा था
फाड़ डाली
वो डायरी!
जिसमें कभी-
सूखा गुलाब रखा था
और-
जला डालीं
वो रंगीन किताबें!
जिन्हें कभी
छुप-छुपकर पढ़ा था।
मैं नहीं चाहता-
फिर से दोहरा जाये
वही पुराना इतिहास
जो कभी-
मैंने रचा था।

No comments: